‘लोग विराट के फैसले को स्वार्थी मानते हैं लेकिन सच्चाई इसके बिल्कुल उलट है’

0


कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ एलिमिनेटर में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के हारने के बाद, उनके कप्तान के रूप में विराट कोहली के 11 सीजन का कार्यकाल सोमवार को समाप्त हो गया। इससे पहले उन्होंने यह भी घोषणा की थी कि वह आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के समापन के बाद भारतीय टीम की टी-20 कप्तानी भी छोड़ देंगे। अपने फ्रेंचाइजी के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर एक चैट में कोहली ने अपने फैसले के पीछे के कारणों के बारे में बताया। डीविलियर्स ने रॉयल चैलेंजर्स टीम के अपने साथी (विराट) का बचाव करते हुए कहा कि क्यों किसी फैन, टीममेट या टीम मैनेजमेंट की उम्मीदों से पहले संन्यास लेना एक ‘स्वार्थी’ निर्णय नहीं है।

टी-20 वर्ल्ड कप के लिए शार्दुल ठाकुर की 15 सदस्यीय भारतीय टीम में एंट्री, अक्षर पटेल बने रिजर्व टीम का हिस्सा

डिविलियर्स ने कहा, ‘मुझे लगता है कि एक कप्तान के रूप में विराट का प्रदर्शन अविश्वसनीय रहा है। उनके अधीन खेलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मैं पिछले कुछ सालों से उनका फैन रहा हूं, क्योंकि उन्होंने भारतीय टीम और आईपीएल में काफी सालों से कई पदभार संभाले हैं और उसमें वे काफी कारगर रहे हैं। इस वजह से मैं उनका फैन रहा हूं। मुझे लगता है कि उनका यह फैसला उन्हें दबाव मुक्त कर सकता है।’

उन्होंने कहा, ‘आईपीएल में विराट हमेशा क्रिकेट का लुत्फ उठाते हैं, क्योंकि यहां बहुत सारे इंटरनेशनल दोस्तों के साथ थोड़ा मजा कर सकते हैं। इसके बाद वे भारतीय टीम की कप्तानी करने के लिए जाते हैं, जहां काफी दबाव रहता है। पिछले कुछ सालों से यही हाल है। इससे उनकी क्षमता से इसका कोई लेना-देना नहीं है। हम सभी जानते हैं कि कप्तान के तौर पर वह हमारे लिए अविश्वसनीय रहे हैं। आरसीबी के लिए हमेशा उन्होंने आगे से टीम नेतृत्व किया है। उन्होंने काफी रन बनाए हैं। मैं उन्हें कप्तान के रूप में जाते हुए देखकर दुखी हूं। लेकिन मुझे उम्मीद है कि टीम में हमलोग कुछ और साल साथ रहेंगें और कई ट्रॉफी जीतेंगे।’

वेस्टइंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल ने बताया, कर्टली एंब्रोस के लिए मन में क्यों नहीं है इज्जत

डीविलियर्स ने विराट के फैसले का बचाव करते हुए कहा, ‘मैं पहले भी ऐसे परिस्थितियों में रहा हूं और मैं इसी वजह से यह समझ सकता हूं कि वे क्या महसूस कर रहे हैं और वह क्या कर रहे हैं। इसलिए मेरी राय में कोहली के इस फैसले को स्वार्थी कहना एक गलत धारणा है। कुछ खिलाड़ी ऐसे फैसले लेते हैं, जिससे उनका कार्यभार थोड़ा कम हो जाता है। लोग इसे स्वार्थी होने के रूप में देखते हैं लेकिन सच्चाई ठीक इसके उलट है। यह स्वार्थी होना नहीं है। उसके इस फैसले के कारण वह खुद को एक बेहतर प्लेयर बना सकते हैं। मैं उसी स्थिति में था, मेरी भी काफी आलोचना भी हुई थी।’
 



Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.