अधूरा रह गया बतौर कप्तान आरसीबी को चैंपियन बनाने का सपना, आंकड़ों के जरिए समझिए विराट कोहली की कप्तानी में कैसा रहा बैंगलोर का प्रदर्शन

0


डेन क्रिस्टियन की गेंद पर शाकिब अल हसन के बल्ले से निकला एक रन और इसके साथ ही लाखों आरसीबी फैन्स का दिल भी चकनाचूर हो गया। विराट कोहली का बतौर कप्तान रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को चैंपियन बनाने का सपना भी अधूरा रह गया। कोहली ने एलिमिनेटर मैच में पहले बल्ले और फिर फील्डिंग सजाकर जीत के लिए जोर तो पूरा लगाया, पर मानो ऐसा लगा कि कोलकाता नाइट राइडर्स के पक्ष में जीत पहले ही लिख उठी थी। अगले आईपीएल में भी विराट मैदान पर तो उतरेंगे, पर वो फील्ड जमाना और विकेट मिलने पर गेंदबाज से ज्यादा जश्न मनाने वाले कोहली शायद आपको अब आगे दिखाई ना दे। कोहली भले ही बैंगलोर को आईपीएल का खिताब नहीं दिला सके, पर लाल जर्सी में इस खिलाड़ी ने आरसीबी के लिए कई धमाकेदार प्रदर्शन किए। आइए आपको बताते हैं कि कैसा रहा कोहली की कप्तानी में बैंगलोर का प्रदर्शन और किन उपलब्धियों को किया विराट ने अपने नाम। 

 

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की विराट कोहली ने 140 मैचों में कप्तानी की जिसमें से टीम को 66 में जीत हासिल हुई, जबकि 70 में टीम को हार का सामना करना पड़ा। विराट की कप्तानी में साल 2016 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम ने फाइनल तक का सफर तय किया, लेकिन फाइनल में हैदराबाद कोहली और ट्रॉफी के आड़े आ गई। इस साल की तरह ही पिछले सीजन भी टीम ने कोहली की अगुवाई में प्लेऑफ में अपनी जगह बनाई, पर वहां भी टीम को एलिमिनेटर मैच में हार झेलनी पड़ी। कप्तानी के साथ बतौर बल्लेबाज विराट ने बैंगलोर की जर्सी में काफी कुछ हासिल किया। कोहली ने आरसीबी की तरफ से खेलते हुए आईपीएल में 42 अर्धशतक जड़े तो 5 सेंचुरी भी ठोकी। सिर्फ यही नहीं एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भी विराट के नाम ही है, जो आजतक कोई बल्लेबाज नहीं तोड़ सका है। 

IPL 2021 Eliminator, RCB vs KKR: हर्षल पटेल ने फिर रचा इतिहास, ऐसा करने वाले संयुक्त रूप से पहले गेंदबाज बने

विराट कोहली आईपीएल में 6 हजार से ज्यादा रन बनाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं और उन्होंने यह सभी रन बैंगलोर की तरफ से खेलते हुए ही बनाए हैं। आईपीएल में सबसे ज्यादा सेंचुरी लगने के मामले में भी विराट क्रिस गेल के बाद दूसरे नंबर पर हैं। वहीं, सबसे ज्यादा अर्धशतक ठोकने में भी कोहली डेविड वॉर्नर और शिखर धवन के बाद तीसरे नंबर पर ही मौजूद हैं। यानी यह आंकड़े साफतौर पर बताने के लिए काफी हैं कि विराट ने बतौर कप्तान और खिलाड़ी बैंगलोर के लिए हमेशा अपना बेस्ट दिया, बस शायद किस्मत ही उनसे कर बार अहम समय पर आकर रुठ गई। 
 

संबंधित खबरें



Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.